Tuesday, 10 April 2012

गीली ओस की तरह


कुछ भावनाएँ
जोड़  कर ,
भर   लिया   मन   का  आँगन ,
प्यारे   प्यारे  शब्दों  से  |
जिनके   मायने  मैंने   गढे  थे  ,
अपनी खुशी के लिए |
उन्हें  पढ़ पढ़  कर
 खूब झूमीं  नाची |
जी भर  कर मनाया  उत्सब |

कुछ  शब्दों को
 '' वो ''
रख गया था  मेरे
 मन के द्वार पर ,
मखमली  लिबाश    मे
  लपेट  कर |
और  मैंने  जी  लिए  ,
जीवन  के  कुछ  पल ,
उनके   सहारे |
पर  तोड़   कर जब ,
मखमली  आवरण
कुछ  शब्द  निकले ,
 तीखे   नश्तर   से
जा  लगे
 सीधे  दिल  पर
और    बह  निकली धारा ,
आँखों   के
  कटोरों   से
नहला   दिया
 गालों  को
सिमट   गईं  
भावनाएँ
 उँगलियों   के  पोरों   पर
गीली ओस की तरह |

ममता


30 comments:

  1. ममताजी ...ओस सी नाज़ुक ....आपकी कविता छू गयी अंत:स को ......और टीसती हुई ढुलक गयी ....हथेलियों पर कुछ निशाँ ..कुछ अहसास छोडती ....

    ReplyDelete
  2. वाह.................
    मनोव्यथा का सुकोमल वर्णन .............

    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  3. गालों को
    सिमट गईं भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह,
    सुन्दर रचना,बेहतरीन भाव पुर्ण प्रस्तुति,.....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    ReplyDelete
  4. बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  5. man ki baat ko khoobsurti se prastut karne ka ye andaaz aapse seekhna padega.

    ReplyDelete
  6. कुछ भावनाएँ
    जोड़ कर ,
    भर लिया मन का आँगन ,
    प्यारे प्यारे शब्दों से |
    जिनके मायने मैंने गढे थे ,
    अपनी खुशी के लिए |
    उन्हें पढ़ पढ़ कर
    खूब झूमीं नाची |
    जी भर कर मनाया उत्सब |bahut sundar utsav

    ReplyDelete
  7. सुन्दर सृजन , बेहतरीन भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  8. घाव भरे नहीं जा सकते ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  9. शब्द कभी सुकून देते हैं तो कभी तीर की तरह भेद जाते हैं ... बहुत खूबसूरती से भावों को सँजोया है ...

    ReplyDelete
  10. गहरे एहसास के साथ गुंथे हुवे शब्दों का असर बाखूबी अंजाम दे रहा है इस लाजवाब रचना को ... बहुत उम्दा ....

    ReplyDelete
  11. सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह |
    अनुपम भाव संयो‍जन ।

    ReplyDelete
  12. मन में प्रभाव करता.. सुन्दर रचना ..शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  13. कुछ भावनाएँ
    जोड़ कर ,
    भर लिया मन का आँगन ,
    प्यारे प्यारे शब्दों से |
    जिनके मायने मैंने गढे थे ,
    अपनी खुशी के लिए |
    उन्हें पढ़ पढ़ कर
    खूब झूमीं नाची |
    जी भर कर मनाया उत्सब |

    सुंदर रचना....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  14. कविता का कथ्य, शिल्प और बिम्ब आकर्षित करते हैं।

    ReplyDelete
  15. कुछ शब्द निकले ,
    तीखे नश्तर से
    जा लगे
    सीधे दिल पर

    यह चलाये तीर कई बार घातक होते हैं ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  16. जहाँ छाँह तहँ धूप है, जहाँ रंक तहँ भूप
    जहाँ दिवस तहँ रात है, जीवन के दो रूप.

    गूढ़ रचना, वाह !!!!!

    ReplyDelete
  17. vaah vaah mamta ji vaastvikta ka dharatal jab jameen par lakar rakh deta hai tab harday ki vyathayen aankhon se bahti hain.bahut sundar bhaav bahut achcha laga padhkar.

    ReplyDelete
  18. आँखों के
    कटोरों से
    नहला दिया
    गालों को
    सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह |
    अति मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  19. कुछ शब्दों को
    '' वो ''
    रख गया था मेरे
    मन के द्वार पर ,
    मखमली लिबाश मे
    लपेट कर |
    बढ़िया रागात्मक भाव विह्यावल करती प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  20. शब्दों का असर अहसासों को बाखूबी बयाँ कर रहा है

    इस लाजवाब रचना के लिये बधाई.

    ReplyDelete
  21. आँखों के
    कटोरों से
    नहला दिया
    गालों को
    सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह |
    ..bahut sundar..

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर,,बेहतरीन भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  23. आँखों के
    कटोरों से
    नहला दिया
    गालों को
    सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह,

    बहुत सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति //

    MY RECENT POST ....काव्यान्जलि ....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    MY RECENT POST .....फुहार....: प्रिया तुम चली आना.....

    ReplyDelete
  24. जिनके मायने मैंने गढे थे ,
    अपनी खुशी के लिए |
    उन्हें पढ़ पढ़ कर
    खूब झूमीं नाची |
    जी भर कर मनाया उत्सब |

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति // बेहतरीन रचना //


    MY RECENT POST .....फुहार....: प्रिया तुम चली आना.....

    ReplyDelete
  25. सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह |..........ममता जी बहुत ही कोमल भाव और मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  26. गीली ओस सी मुलायम भावनाएं.

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर । मेरे नए पोस्ट "बिहार की स्थापना के 100 वर्ष" पर आपकी प्रतिक्रियाओं का बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद

    ReplyDelete
  28. नहला दिया
    गालों को
    सिमट गईं
    भावनाएँ
    उँगलियों के पोरों पर
    गीली ओस की तरह |

    अतिसुंदर भावनात्मक प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर ! जितनी सार्थक रचना उतनी ही कलात्मक ! शुभकामनायें !
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete