Thursday, 29 December 2011

जीवनसंघर्ष

    जीवन    संघर्ष  ,
 जीवन    संघर्ष |
 दुर्गम    है   रास्ता  ,
 चलता    तू   रह    सदा  |
 धेर्य    की   प्राचीर   चढ ,
 क्या    करेगी   आपदा ?
  पर्बत   भी    देखेंगे   तेरा  उत्कर्ष |
  जीवन   संघर्ष ,
  जीवन   संघर्ष |
  कर्म    ही   आधार है ,
 कर्म   कर   सत्कर्म   कर |
    आएगी   ही   बसंत ,   
  दीप    तैयार   कर  |
   उल्लसित   हो   मना   नव  वर्ष |
  जीवन   संघर्ष ,
  जीवन   संघर्ष |
  भूल    बीती   बातों   को ,
   नए   पल   पुकार  ले |
अनुभवों    की   धूप   से ,
आज   को  सवांर   ले
नित   नए   देख   सपने सहर्ष
जीवन   संघर्ष ,
जीवन   संघर्ष |
थकना   नहीं   रुकना    नहीं ,
चलता   तू   रह    सदा |
पोंछ    श्रम    के   बिंदुओं   को ,
भाल   पर   टीका   लगा |
निश्चय  ही  होगा  विजयी  स्पर्ष |
जीवन   संघर्ष ,
जीवन   संघर्ष |


ममता

29 comments:

  1. http://bulletinofblog.blogspot.com/2011/12/blog-post_30.html


    ब्लॉग बुलेटिन की इस ख़ास पेशकश :- २०११ के इस अवलोकन को मैं एक पुस्तक का रूप दूंगी , लिंकवाली पूरी रचना होगी ... यदि आप में से किसी को आपत्ति हो तो यहाँ या फिर मेरी ईमेल पर स्पष्ट कर दें ... और हाँ किसी को यह पुस्तक उपहार स्वरुप नहीं दी जाएगी ....अतः इस आधार पर निर्णय लें ... मेरा ईमेल है :- rasprabha@gmail.com .

    ReplyDelete
  2. निश्चय ही आपके मन की दुनिया विस्तृत है !
    बहुत सुन्दर रचना !
    आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब. नव वर्ष की अग्रिम शुभ कामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छा लिखा है आंटी।
    संघर्ष का नाम ही जीवन है।

    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ...नव वर्ष की अग्रिम शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete
  6. थकना नहीं रुकना नहीं ,
    चलता तू रह सदा |
    पोंछ श्रम के बिंदुओं को ,
    भाल पर टीका लगा |

    bahut sundar rachana bajpai ji ... apki rachan aur navvarsh pr hardik badhai

    ReplyDelete
  7. कल 31-12-2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. आपका आभार कल हलचल पर जरूर पह्चुंगी

    ReplyDelete
  9. Sakaratmak, Sundar Prastuti....

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  10. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !
    सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  11. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !
    सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर्……………॥आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  13. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    नववर्ष की अनंत शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  14. सुंदर अभिव्यक्ति बेहतरीन प्रेरक रचना,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  17. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    इस रिश्ते को यूँ ही बनाए रखना,
    दिल मे यादो क चिराग जलाए रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2011 का,
    अपना साथ 2012 मे भी इस तहरे बनाए रखना,
    !! नया साल मुबारक !!

    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया, आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से नया साल मुबारक हो ॥


    सादर
    आपका सवाई सिंह राजपुरोहित
    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    ReplyDelete
  18. बहुत ही भावपूर्ण ओजस्वी रचना.... हार्दिक मंगल कामनाएं

    ReplyDelete
  19. जीवन संघर्ष ,
    जीवन संघर्ष |
    कर्म ही आधार है ,
    सच बात है...

    ReplyDelete
  20. नया साल बहुत बहुत मुबारक.

    ReplyDelete
  21. बिना संघर्ष का जीवन निराशापूर्ण होता है
    नया साल बहुत बहुत मुबारक.

    ReplyDelete
  22. bahut hi prerak rachna ...nav varsh ki shubhkamnaye :)

    ReplyDelete
  23. आत्मविश्वास जगाति सुंदर प्रेरणादायी रचना है...

    ReplyDelete
  24. atyant prerna denewali rachna hai.....

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर..
    प्रेरणा से ओतप्रोत रचना..
    सादर.

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब
    आशा संचार करती रचना

    ReplyDelete
  27. प्रेरक काब्यांजलि ..सादर अभिनन्दन

    ReplyDelete