Monday, 12 December 2011

भ्रूण हत्या




गर्भ   मे   ही
कन्या   भ्रूण हत्या ,
कैसे    कर पाती है
एक माँ ?
बहुत   मंथन  के  बाद,
निकाला  है मैंने ,
अपनी अल्प बुद्धि से
ये निष्कर्ष |
जब माँ
बेटी को पाल पोश  कर
करती है बड़ा |
देती है संस्कार ,
बनाती है आत्मनिर्भर |
फिर देखती है ,
सुन्दर  सपना |
 उसके सुखी घर संसार का \
तब सामना होता है लालच से  |
धराशाई  हो  जाते  है
 सारे सपने |
युग  बदला सदी बदली,
पर नारी के लिए
बहुत थोडा हुआ बदलाव |
वो आज भी है शोषित |
बिना धन के विवाह मुश्किल |
प्रेम के सच्चे  समर्पण का
नहीं है कोई भी मूल्य
पग पग पर हैं धोके |
तिल तिल  घुट  कर जीने की  ,
विडंबना ,तो फिर
ऐसे  जीवन से बेहतर है
गर्भ में ही दफन होना |
इसी लिए ...
.आसान रास्ता ... भ्रूण  हत्या
मुझे ये लगा ..आप भी सोचें |








  

29 comments:

  1. bahut marmik vishya hai bahut achcha likha kanya bhroon hatya ki asli jad dahej hai aur kuch nahi is samajik jahar ko ukhad fenkna hoga tabhi kanya surakshit rah paayengi.

    ReplyDelete
  2. ऐसे जीवन से बेहतर है
    गर्भ में ही दफन होना |
    इसी लिए ...per kai baar maa ke mann ke viprit hota hai sab

    ReplyDelete
  3. सोचनीय, मार्मिक रचना

    ReplyDelete
  4. उस समय यहाँ तक सोच नहीं पहुंचती ... माँ स्वयं ही शोषित होती है और उसकी इच्छा के विरुद्ध निर्णय ले लिया जाता है ..

    मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. कारण कुछ भी हो, भ्रूण हत्या को हत्या की भाँति देखा जाना चाहिए. आपने नारी के शोषण/दासत्व की बात उठाई है जो इन हत्याओं के पीछे का महत्वपूर्ण कारण है.

    ReplyDelete
  6. विचारोत्तेजक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. kahne ko kaha ja sakta hai ki ek karan ye bhi ho sakta hai...lekin maa kabhi bhi apne ansh ko samaapt karna nahi chahegi. Baki uski pahle hi kitni chali hai jo aaj chalegi...?

    ReplyDelete
  8. शायद इस सोच को बदलना ही होगा!पर क्यों नहीं महिलायें उठातीं ठोस कदम इस सोच के खिलाफ़..

    ReplyDelete
  9. सशक्त प्रभावित करती रचना ...सच में कई सारे कारण हैं जो कन्या भ्रूण हत्या की वजह हैं ......सटीक रेखांकन

    ReplyDelete
  10. विचारणीय पोस्ट आख़िर कब तक?

    ReplyDelete
  11. सशक्त रचना , विचारणीय पोस्ट..

    ReplyDelete
  12. एक भावपूर्ण सच्चाई सहज शब्दो में!! बधाई!!!!!!

    ReplyDelete
  13. तिल तिल घुट कर जीने की ,
    विडंबना ,तो फिर
    ऐसे जीवन से बेहतर है
    गर्भ में ही दफन होना |
    इसी लिए ...
    .आसान रास्ता ... भ्रूण हत्या
    मुझे ये लगा ..आप भी सोचें |

    bahut utkrsht rachana bajpai ji... abhar.

    MERI AK RACHANA (MAHILA AARAKSHAN) NAVEMBER MAH ME HAI KRIPYA USE JAROOR PADHEN MUJHE APKI PRTIKRIY CHAHIYE .

    ReplyDelete
  14. सच्चाई को आपने बहुत सुन्दरता से शब्दों में पिरोया है! मार्मिक रचना!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  16. आज की सच्चाई दर्शाती सुंदर सटीक सार्थक रचना,.....बढ़िया पोस्ट


    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    जहर इन्हीं का बोया है, प्रेम-भाव परिपाटी में
    घोल दिया बारूद इन्होने, हँसते गाते माटी में,
    मस्ती में बौराये नेता, चमचे लगे दलाली में
    रख छूरी जनता के,अफसर मस्ती के लाली में,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  17. युग बदला सदी बदली,
    पर नारी के लिए
    बहुत थोडा हुआ बदलाव |
    वो आज भी है शोषित |

    ....बहुत मार्मिक...कब होगा बदलाव इस मनोवृति में...बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  18. हमें हमारी सोच को बदलना होगा !
    प्रेरणादायक प्रस्तुति ..!
    आभार !

    ReplyDelete
  19. तिल तिल घुट कर जीने की ,
    विडंबना ,तो फिर
    ऐसे जीवन से बेहतर है
    गर्भ में ही दफन होना |
    इसी लिए ...
    .आसान रास्ता ... भ्रूण हत्या

    गंभीर दुखद और सवेदंशील विषय को आपने अपनी कविता का विषय बनाया जो सराहनीय है. सुंदर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  20. कष्टकारक और चिंतनीय विषय है ,
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  21. Bahut sasakt rachna
    marmik aur hrdayspashi rachna ke liye badhai sweekar karein

    ReplyDelete
  22. मनन योग्य...सार्थक... अच्छी लगी .

    ReplyDelete
  23. जी। मेरा भी यही मानना है कि सिर्फ माँ को दोष देने से नहीं होगा। वह हालात पैदा करो कि कोई माँ बिटिया जनने से ना डरे।

    ReplyDelete
  24. बेहद तीखे सवाल .........

    ReplyDelete
  25. आपका पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  26. रचना का यह पक्ष भावुकता है किंतु क्या अपने बच्चों के जीवन और मृत्यु का फैसला करने का अधिकार माँ या पिता का हो सकता है ?
    यह भी एक विचारणीय प्रश्न है.कारण और परिस्थितियाँ चाहे कुछ भी हो,कन्या भ्रूण हत्या कतई उचित नहीं है.

    ReplyDelete
  27. marmsparsi kavita .ummid hai tasvir badlegi

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर व सार गर्भित कविता !

    ReplyDelete