Wednesday, 30 November 2011

चूडियाँ

मैंने  अक्सर  लोगों  को कहते सुना है
कि चूडियाँ  पहन  कर घर में  बैठो
मतलब आप में साहस की कमी है
अर्थात  चूडियाँ  पहनने वाले हाथ बहुत
कमजोर होते है ...पर में इससे सहमत नहीं
इसके जवाव  मे ही मैंने ये रचना लिखी है



चूडियाँ   निर्बल  नही  हैं, शक्ति  है   ये  चूडियाँ |
नारी    का   श्रंगार  है ,सम्मान   हैं  ये चूडियाँ |

पहनती     माँ    शारदा  ,
जब  चूडियाँ निज हाथ में|
दीप  बन  जाती   अँधेरी ,
काली   काली  रात    में|
थाम  कर ऊँगली दिखाती हैं
तुम्हें   पथ   ज्ञान   का
बुध्धि,  बल  ,ममता   दया   का  दान है ये चूडियाँ
नारी   का   श्रंगार   हैं  सम्मान  हैं  ये   चूडियाँ 

सजती  थी   ये झांसी  की ,
वीरंगना   के  हाथ    मे |
नाम अंकित  कर गई  जो ,
शक्ति  का  इतिहास   में|
देश  के  इतिहास  के पन्ने ,
पलट   कर    देख  लो |
ललनाओं  के  हाथ मे  शमशीर  थी  ये चूडियाँ |
नारी  का  श्रंगार  है  सम्मान  हैं   ये चूडियाँ |

माँ   भवानी  के न  जाने ,
कितने    सारे   रूप   हैं |
हैं  कही  पर  छाव  जैसी  ,
और  कही  पर धूप   हैं |
युद्ध   के    मैदान    मैं,
पहुची लिए तलवार जब ,|
राक्षसों    के   रक्त   का  नित  पान  करती चूडियाँ
नारी   का   श्रंगार  हैं   सम्मान  हैं   ये   चूडियाँ 

माँ  बनी  बेटी बनी  और,
प्रियतमा    भी बन गयी  |
प्रेम का  बंधन  ह्रदय की,
भावना   भी  बन  गयी |
तुम  इन्हें  कच्ची  न समझो
हैं  भले  ये    कांच  की
वक्त  आने पर  बदलती  रूप   हैं  ये चूडियाँ |
नारी  का  श्रंगार  हैं   सम्मान  हैं  ये चूडियाँ |

राष्ट्र  की  सर्वोच्च  सत्ता ,
पर  भी  ये  सजती   रहीं |
रक्त  बेटों  का   समर्पित ,
राष्ट्र   को   करती   रहीं
देश   पर   शंकट   अगर    आ  जाये   तो
हँसते  हँसते   देश  पर   कुर्बान   हैं   चूडियाँ
नारी  का   श्रंगार   हैं  सम्मान  हैं  ये  चूडियाँ

32 comments:

  1. हँसते हँसते देश पर कुर्बान हैं चूडियाँ
    नारी का श्रंगार हैं सम्मान हैं ये चूडियाँ
    sunder bhav ...
    badhai.

    ReplyDelete
  2. Mamta ji...

    Chudiyan kamjor hain na haath, jinme chudiyan...
    Jeev ko jeevan ki hain, saugaat deti chudiyan...
    Maa, bahan, beti ka, hain, shringaar bhi hain chudiyan...
    Apne priyatam ke solah shringaar, bhi hain chudiyan..
    Aadi se chudi rahi hai shakti ka dyotak sada...
    Har koi naari ke aage, aaj natmaatak raha..

    Bahut hi behtareen prastuti...chhandon ne kavita ki khoobsoorti aur prawah sunishchit kiya hai...WAH..'

    DEEPAK..

    ReplyDelete
  3. माँ बनी बेटी बनी और,
    प्रियतमा भी बन गयी |
    प्रेम का बंधन ह्रदय की,
    भावना भी बन गयी |
    तुम इन्हें कच्ची न समझो
    हैं भले ये कांच की ...बहुत सुन्दर !!

    ReplyDelete
  4. महिला शक्ति को दुनिया स्वीकार करती है. समस्या यह है कि चूड़ियाँ नारी दासत्व की प्रतीक भी हैं. उस मानसिकता को तोड़ने की आवश्यकता है. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव और अभियक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने ! सच्चाई को आपने बड़े खूबसूरती से शब्दों में पिरोया है!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति ......

    ReplyDelete
  7. चूड़ी पहनना,..दासता स्वीकार करना,और डरने का प्रतीक,है

    ReplyDelete
  8. hamare raashtrkavi maithilisharan gupt ji ne bhi yahi likha hai ki nari ki choodiyan kayarta ki nishani nahin balki veerta ki nishani hain.

    aapne bahut acchhi prerak rachna ka srijan kiya. aabhar.

    ReplyDelete
  9. चूडियाँ निर्बल नही हैं, शक्ति है ये चूडियाँ |
    नारी का श्रंगार है ,सम्मान हैं ये चूडियाँ |

    बहुत अच्छा लिखा है...साहस का प्रतीक हैं चूड़ियाँ|

    ReplyDelete
  10. बहुत भावपूर्ण और सार्थक कविता |बधाई |मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार |इसी प्रकार स्नेह बनाए रखें |
    आशा

    ReplyDelete
  11. .



    माँ भवानी के न जाने ,
    कितने सारे रूप हैं |
    हैं कही पर छाव जैसी ,
    और कही पर धूप हैं |
    युद्ध के मैदान मैं,
    पहुची लिए तलवार जब ,|
    राक्षसों के रक्त का नित पान करती चूडियाँ
    नारी का श्रंगार हैं सम्मान हैं ये चूडियाँ

    बहुत बहुत ओजपूर्ण गीत है…आदरणीया ममता जी !
    आपकी लेखनी को प्रणाम है !

    नारी कमजोर है भी नहीं , न कभी कमजोर थी !
    शक्तिस्वरूपा यूं ही तो नहीं मानते…

    पुनःश्च बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  12. वाह,चूड़ियों पर बहुत सुन्दर रचना लिखी है आपने.

    ReplyDelete
  13. ममता जी , चूड़ियों की सही महत्ता को सुन्दर शब्दों में पुनर्स्थापित किया है आपने. सुन्दर रचना के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  14. सही और सटीक कहा है आपने.

    ReplyDelete
  15. क्या बात है । आपेक पोस्ट ने बहुत ही भाव विभोर कर दिया । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  16. सही और सटीक कहा है आपने..सुन्दर रचना..मेरे नए पोस्ट पर आप का स्वागत है ।

    ReplyDelete
  17. साहस का प्रतीक है नारी और इसे सार्थक करने में नारी कभी पीछे नहीं हटी है. इस ओजपूर्ण रचना के लिए बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  18. आपका कहना सही है ... पर हर वास्तु की अहमियत तभी तक है जब तक वो उचित स्थान पे है ... स्त्रियाँ कभी भी न निर्बल थीं न हैं ...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर है रचना और आप के उद्गार ...
    कौन कहता है की नारियां कमजोर है .
    .इन चूड़ियों में जोर है ..
    शक्ति है ..भक्ति है
    मान है सम्मान है
    प्रेम का अरमान है
    कुछ कर गुजरने की
    वीरांगना बनने -
    और वीरों को जनने की
    एक अप्रतिम सोच है
    एक होड़ है जोश है
    जूनून है
    अभिमान है
    ये हमारे भारत की
    अनूठी पहचान हैं
    ......जय माँ दुर्गे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  20. चूड़ियों पर बहुत सुन्दर खनकदार रचना !

    ReplyDelete
  21. अंतस के भावों से सुंदर शब्दों में पिरोयी गयी आपकी रचना बेहद ही अच्छी लगी । मेरे नए "पोस्ट आरसी प्रसाद सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. चूड़ियों की महत्ता को सुन्दर शब्दों में धन्यवाद......

    ReplyDelete
  23. हँसते हँसते देश पर कुर्बान हैं चूडियाँ
    नारी का श्रंगार हैं सम्मान हैं ये चूडियाँ .उत्साह,उमंग औ खुशियों की खान है ये चूडियाँ। वाह।

    ReplyDelete
  24. चूडियों का बेहतरीन चित्रण,.बहुत सुंदर रचना,..बधाई
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है,

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब एवं सार्थक अभिव्यक्ति
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है,
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    ReplyDelete
  26. i am glad reading your article. But should remark on some general things, The site style is ideal, the articles is really nice : D. Good job, cheers

    From Great talent

    ReplyDelete
  27. This is excellent. I come here all the time and it’s post like this that are the reason. Keep up the great writing.

    From Great talent

    ReplyDelete
  28. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  29. माँ बनी बेटी बनी और,
    प्रियतमा भी बन गयी |
    प्रेम का बंधन ह्रदय की,
    भावना भी बन गयी |
    तुम इन्हें कच्ची न समझो
    हैं भले ये कांच की
    वक्त आने पर बदलती रूप हैं ये चूडियाँ |
    नारी का श्रंगार हैं सम्मान हैं ये चूडियाँ |


    vah bajpai ji tareef ke lia shabd km pd rahe hai ....sadar abhar

    ReplyDelete