Monday, 28 November 2011

आदमी

ओड़ कर चादर दुखों की
 चिंताओं के बोझ  की
चल रहा है आदमी
ओर अंतस मैं सुलगती
 दंभ की इस आग मैं
जल रहा है आदमी
दाह की पीड़ा भयंकर
टीस मन मैं झेलता
पल रहा है आदमी
जाने किसकी चाह है
चाह मैं जिसकी निरंतर
गल रहा है आदमी
मोहनी मीठी जुबां से
जाल सब्दों के बिछा
छल रहा है आदमी
भावनाये हैं तिरोहित
होले होले यन्त्र मैं
ढल रहा है आदमी
तन हुआ बूढा बहुत तो
अपने ही घर द्वार को
खल रहा है आदमी
वक्त की ठोकर लगी तो
हडबडा कर आँख अपनी
मल रहा है आदमी

13 comments:

  1. वक्त की ठोकर लगी तो
    हडबडा कर आँख अपनी
    मल रहा है आदमी
    ... kyonki gaflat ki andhi daud me hai aadmi

    ReplyDelete
  2. तन हुआ बूढा बहुत तो
    अपने ही घर द्वार को
    खल रहा है आदमी
    वक्त की ठोकर लगी तो
    हडबडा कर आँख अपनी
    मल रहा है आदमी

    Behtareen...Ek ek panktiyan adbhut sachchai piroye huwe...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  3. भावनाये हैं तिरोहित
    होले होले यन्त्र मैं
    ढल रहा है आदमी
    कविता आदमी की स्थिति और नियति को पूरी तरह से उकेरती है. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति |मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वगत है । कृपया निमंत्रण स्वीकार करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. आँख खोलने वाली रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  7. चल रहा है आदमी
    ओर अंतस मैं सुलगती
    दंभ की इस आग मैं
    जल रहा है आदमी
    दाह की पीड़ा भयंकर
    टीस मन मैं झेलता
    पल रहा है आदमी

    वर्तमान व्यक्ति के जीवन को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया है आपने इस रचना के माध्यम से .....!

    ReplyDelete
  8. जाल सब्दों के बिछा
    छल रहा है आदमी
    भावनाये हैं तिरोहित
    होले होले यन्त्र मैं
    ढल रहा है आदमी

    सच में ममता जी आज का तो यही परिदृश्य है ......बड़ी प्रासंगिक लगी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  9. Mamta ji..

    Raah kitni bhi kathin ho..
    Chal raha hai aadmi..
    Vakt ke saanche main khud hi..
    Dhal raha hai aadmi..

    Jindgi main aayen sukh-dukh..
    Sabke jeevan main sada..
    Dard kitna bhi ho behis..
    Wo nibhata hi raha...
    Apne man ki aag main hi..
    Jal raha hai aadmi

    kitni bhi raahen kathin hon..
    Chal raha hai aadmi..

    Bahut sundar bhavabhivyakti..

    Aapki anya rachmnaen bhi padhta rahun, esliye aapke blog ka anusaran kar raha hun..

    Shubhkamnaon sahit..

    Deepak..

    ReplyDelete
  10. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'राही मासूम रजा' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  11. क्या बात है दीपक जी आपकी प्रतिक्रया मैं लिखी
    पंग्तियाँ बहुत खूबसूरत हैं

    ReplyDelete
  12. जाने किसकी चाह है
    चाह मैं जिसकी निरंतर
    गल रहा है आदमी .bahut badhiyaa.

    ReplyDelete
  13. ak bahut hi khoob soorat sarthak chintan .... vaki bahut achhi rachana .

    ReplyDelete